Attitude Shayari Hindi – एटीट्यूड शायरी हिंदी में {Latest 300 + अकड़ Shayri in Hindi}


इस पेज पर आपको सभी प्रकार के शायरी एसएमएस, व्हाट्सएप स्थिति शायरी और अन्य सामाजिक नेटवर्क शायरी के लिए मिलेंगे। अपने पाठकों की मांग पर हम Attitude Shayari in Hindi और हिंग्लिश में चित्रों के साथ अपडेट कर रहे हैं। और हमें यकीन है कि आप छवियों के साथ हिंदी एटीट्यूड शायरी के नीचे के शायरी उद्धरण निश्चित रूप से पसंद करेंगे। हर व्यक्ति का अपना प्रकार और मनोभाव होता है। यह भी हम सभी जानते हैं कि लोगों के बीच सोशल मीडिया का प्रभाव और उपयोग। हर कोई व्हाट्सएप और फेसबुक पर अपने स्वयं के प्रकार के शायरी उद्धरण और चित्र साझा करना चाहता है

Attitude Shayari


Attitude Shayari

दिल में मोहब्बत का होना ज़रूरी है,
वरना याद तो रोज दुश्मन भी किया करते हैं।

Dil me mohabbat ka hona jruri haiVrna yaad to roj dushman bhi kiya krte haindil me mohbatt ka hona bahut jaroori hai

अक्सर वही लोग उठाते हैं हम पर उँगलियाँ,जिनकी हमे छुने की औकात नहीं होती।
Attitude Shayari


Aksar Wohi Log Uthhate Hain Hum Par Ungliyan,Jinki Humein Chhune Ki Aukaat Nahi Hoti.aksar-wahi-log-ungli-uthaate-hai-jinki-aukaat-nahi

दुश्मनों को सज़ा देने की एक तहज़ीब है मेरी,मैं हाथ नहीं उठाता बस नज़रों से गिरा देता हूँ।

Dusmano ko sjaa dene ki ek tehjeeb hai meriMain haath nhi uthata bs najro se gira deta hudusmano-ko-nazaroon-se-gira-deta-hu

जहाँ कदर न हो अपनी वहाँ जाना फ़िज़ूल है, चाहे किसी का घर हो चाहे किसी का दिल।

Attitude Shayari
Jha kadr na ho apni wha jaana fijool haiChahe kisi ka ghr ho chahe kisi ka diljaha-kadar-na-ho-waha-jana-fizool-hai

मत करो मेरी पीठ के पीछे बात जाकर कोने में।वरना पूरी जिंदिगी गुज़र जाएगी रोने में।

Mt kro meri peeth ke piche baat jaakr kone meVrna puri jindagi gujr jayegi rone memat-kar-peeth-piche-burai-latest-shayari-pic

वो खुद पे इतना गुरूर करते हैं,तो इसमें हैरत की बात नहीं,जिन्हें हम चाहते हैं,वो आम हो ही नहीं सकते।

Woh Khud Par Guroor Karte Hai,To Isme Hairat Ki Koi Baat Nahi.

Jinhe Hum Chahte Hai,Woh Aam Ho Hi Nahi Sakte. 

Tasalli Se Padhe Hote To Samajh Mein Aate Ham,
Zaroor Kuchh Panne Bina Padhe Hi Palat Diye Honge.

तसल्ली से पढ़े होते तो समझ में आते हम,
ज़रूर कुछ पन्ने बिना पढ़े ही पलट दिए होंगे।

Attitude Shayari Hindi

Ek Isi Usool Par Gujaari Hai Zindagi Maine,
Jisko Apna Mana Use Kabhi Parkha Nahin.

एक इसी उसूल पर गुजारी है जिंदगी मैंने,
जिसको अपना माना उसे कभी परखा नहीं।


Jaise Har Sawaal Ka Jawab Nahi Hota,
Baise Hi Har Insaan Hamari Tarah Nawab Nahi Hota.

जैसे हर सवाल का जवाब नही होता,
वेसे ही हर इंसान हमारी तरह नवाब नही होता।

Bulandi Tak Pahunchna Chahta Hoon Main Bhi,
Par Galat Raaho Se Hokar Jaun Itni Jaldi Bhi Nahi.

बुलंदी तक पहुंचना चाहता हूँ मै भी,
पर गलत राहो से होकर जाऊ इतनी जल्दी भी नही।

Ham Ja Rahe Hain Bahan Jahan Dil Ki Ho Kadar,
Baithe Raho Tum Apni Adaen Liye Huye.

हम जा रहे हैं वहां जहाँ दिल की हो कदर,
बैठे रहो तुम अपने अदाएं लिए हुए।

Haq Se Do Toh Tumhari Nafrat Bhi Qabool Humein,
Khairat Mein Toh Hum Tumhari Mohabbat Bhi Na Lein.
हक़ से दो तो तुम्हारी नफरत भी कबूल हमें,
खैरात में तो हम तुम्हारी मोहब्बत भी न लें।

Attitude Shayari, Haq Se Agar Do



Sooraj Dhala Toh Kad Se Unche Ho Gaye Saaye,
Kabhi Pairo Se Raundi Thi Yehi Parchhaiyan Humne.

सूरज ढला तो कद से ऊँचे हो गए साये,
कभी पैरों से रौंदी थी यहीं परछाइयां हमने।

Hum Toh Aankhon Mein Sanwarte Hain Wahin Sanwrenge,
Hum Nahi Jaante Aayine Kahaan Rakhe Hain.

हम तो आँखों में संवरते हैं वहीं संवरेंगे,
हम नहीं जानते आईने कहाँ रखें हैं।

MujhKo Mere Wajood Ki Hadd Tak Na Jaaniye,
BeHadd Hoon, BeHisaab Hoon, BeIntehaan Hoon Main.

मुझको मेरे वजूद की हद तक न जानिए,
बेहद हूँ बेहिसाब हूँ बेइन्तहा हूँ मैं।

Mizaaj Mein Thodi Sakhti Lazimi Hai Huzoor,
Log Pee Jaate Samandar Agar Khara Na Hota.

मिज़ाज में थोड़ी सख्ती लाज़िमी है हुज़ूर,
लोग पी जाते समंदर अगर खारा न होता।


Meri Saadgi Hi GumNaam Rakhti Hai Mujhe,
Jara Sa Bigad Jaaun Toh MashHoor Ho Jaaun.

मेरी सादगी ही गुमनाम में रखती है मुझे,
जरा सा बिगड़ जाऊं तो मशहूर हो जाऊं।

Zalzale Unchi Imaarat Ko Gira Sakte Nahi,
Main Toh Buniyaad Hun Mujhe Koi Khauf Nahi.

जलजले ऊँची इमारत को गिरा सकते हैं,
मैं तो बुनियाद हूँ मुझे कोई खौफ नहीं।

Jubaan Par Mohar Lagana Koi Badi Baat Nahi,
Badal Sako Toh Badal Do Mere Khayalon Ko.

जुबां पर मोहर लगाना कोई बड़ी बात नहीं,
बदल सको तो बदल दो मेरे खयालों को।

Ugte Huye Sooraj Se Milate Hain Nigaahein,
Hum Gujari Hui Raat Ka Maatam Nahi Karte.

उगते हुए सूरज से मिलाते हैं निगाहें,
हम गुजरी हुई रात का मातम नहीं करते।

Post a Comment

0 Comments